G-20 सम्मेलन: आज ब्रिटेन और इटली के नेताओं के साथ होगी PM मोदी की बैठक

 

जर्मनी के हैमबर्ग में जी-20 सम्मेलन शुरू हो चुका है और इसके पहले ही दिन प्रधानमंत्री मोदी ने आतंवाद के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद की और 10 पॉइंट का एक प्रस्ताव दिया जिसमें आतंकवाद को मिटाने के लिए जी-20 देशों को मिल कर काम करने की अपील की गई थी। आज इस सम्मेलन का दूसरा दिन है और प्रधानमंत्री आज ब्रिटेन के नेताओं के साथ द्विपक्षीय बैठक भी करेंगे। इसके अलावा दक्षिण कोरिया, मेक्सिको, इटली, अर्जेंटीना, वियतनाम के नेताओं के साथ भी उनकी बैठक है।
इसके साथ ही जी-20 सम्मेलन में दूसरे दिन दो औपचारिक सत्र होंगे जिसमें दुनिया भर के नेता अलग-अलग विषयों पर विचार-विमर्श करेंगे। जहां दूसरे सत्र में अफ्रीका के साथ भागीदारी, पलायन और स्वास्थय पर चर्चा होगी वहीं दूसरे सत्र में डिजिटलाइजेशन, महिला सशक्तिकरण और रोजगार पर चर्चा होगी।
आतंकवाद के खिलाफ एकजुट हों देश
जी-20 सम्मेलन के पहले दिन विभिन्न देशों के नेताओं ने आतंकवाद और जलवायु परिवर्तन जैसी समस्याओं के समाधान एवं मुक्त व्यापार जैसे मामलों पर विचार-विमर्श किया। इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ एक कड़ा संदेश देते हुए आतंकवाद का समर्थन करने वाले देशों के अधिकारियों के जी-20 देशों में प्रवेश पर रोक लगा दी।
भारत ने मजबूती से अपना पक्ष रखा
जर्मनी की चांसलर एंजेला मार्केल ने विभिन्न मुद्दों पर एक सर्वसम्मति नहीं बन पाने की स्थिति में समझौता करने का प्रस्ताव रखा तो भारत ने आतंकाव्द के खिलाफ लड़ाई में ठोस कदम उठाने की मांग की।
जी20 देशों ने सोशल मीडिया की मदद से फैलने वाले कट्टरपंथ और आतंकी पनाहगाहों के खिलाफ कार्रवाई करने का संकल्प लिया। इसके साथ प्रधानमंत्री मोदी द्वारा नेताओं की रिट्रीट में उठाए गए मसलों को भी इस चर्चा में शामिल किया गया।
चीन के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री मोदी ने मिलाया हाथ
सिक्किम विवाद के बावजूद प्रधानमंत्री मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने ब्रिक्स नेताओं की अनौपचारिक बैठक के दौरान एक दूसरे से हाथ मिलाया और व्यापक मुद्दों पर चर्चा की। इसकी जानकारी विदेश मंत्रालय गोपाल बागले ने इस बात की जानकारी दी।
प्रधानमंत्री मोदी ने ब्रिक्स देशों की गतिशीलता की तारीफ़ की। इसके साथ ही उन्होंने ब्रिक्स के आगाम शिकार सम्मेलन जो बीजिंग में होने वाला है, का पूर्ण समर्थन करने की बात कही। इसके साथ ही ब्रिक्स देशों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने अपील की कि ब्रिक्स देशों को आतंकवाद से मुकाबले और वैश्विक आर्थिक वृद्धि में तेजी लाने के लिए काम करना चाहिए।
चीन के भारत की तारीफ की
बता दें कि ब्रिक्स देशों में भारत की अध्यक्षता की अवधि पूरी हो गई है और अब यह जिम्मेदारी चीन को सौंपी गई है। राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भी भारत की बातों को दोहराते हुए कहा कि भारत की अध्यक्षता में ब्रिक्स देशों की गतिशीलता काफी बेहतर रही। ब्रिक्स देशों के आगामी शिखर सम्मेलन की तैयारियों पर भी चर्चा हुई।
विदेश मंत्रालय ने कहा कि ब्रिक्स दुनिया भर में स्थिरता, सुधार, प्रगति और उत्तम शासन की सशक्त आवाज है। प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी कहा कि जी20 देशों को आतंकवाद को पैसे मुहैया कराने, फ्रेंचाइजी, सुरक्षित ठिकाना मुहैया कराने, समर्थन करने और प्रायोजित करने का सामूहिक तौर पर विरोध करना चाहिए।
पाकिस्तान पर साधा निशाना
प्रधानमंत्री मोदी ने आतंकी संगठनों जैसे लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मुहम्मद का हवाला देते हुए पाकिस्तान पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कुछ देश अपने राजनीतिक लक्ष्यों को हासिल करने के लिए आतंकवाद का सहारा लेते हैं। इसके साथ ही उन्होंने इन संगठनों की तुलना आईएसआईएस जैसे संगठन से की और कहा कि भले ही इनके नाम अलग हों लेकिन विचारधारा बिल्कुल एक है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने जी20 देशों से ऐसे संगठनों के खिलाफ मिलकर लड़ने की अपील की।
आतंकवाद के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया बेहद कमजोर
प्रधानमंत्री मोदी ने दुनिया भर के शीर्ष नेताओं की मौजूदगी में इस बात पर अफसोस जताया कि आतंवाद पर अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया बेहद कमजोर है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद से निपटने के लिए सभी के सहयोग की आवश्यकता है।
सम्मेलन के पहले दिन में प्रधानमंत्री ने ब्रिक्स नेताओं के साथ बैठक में कहा कि उत्तर कोरिया में भूराजनीतिक तनाव और खाड़ी एवं पश्चिम एशिया के घटनाक्रम चिंता का विषय है।
थेरेसा मे के साथ आज प्रधानमंत्री मोदी की मुलाकात
प्रधानमंत्री मोदी ने जापान और कनाडा के अपने समकक्षों के साथ द्विपक्षीय मुलाकातें भी कीं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे, जर्मन चांसलर एंजेला मार्केल और फ्रांस के राष्ट्रपति एमानुएल मैक्रोन के साथ भी प्रधानमंत्री मोदी ने एक संक्षिप्त बात-चीत की।
इसके साथ ही ब्राजील के राष्ट्रपति मिचेल टेमर, दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब जुमा के साथ भी अनौपचारिक बात-चीत हुई। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन टूड्रो से द्विपक्षीय मुलाकात की तथा कई मुद्दों पर बात-चीत की।
जी-20 सम्मलेन का समापन चौथे सत्र के साथ होगा और इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली के लिए रवाना हो जायेंगे।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s